मिनी हिंदुस्तान: दुनिया का वो अनोखा देश, जहां की राजभाषा में शामिल है हिंदी

मिनी हिंदुस्तान:  दक्षिण प्रशांत महासागर के मेलानेशिया में भी ऐसा ही एक द्वीपीय देश है, जहां की करीब 37 फीसदी आबादी भारतीय है|

ये सब यहाँ पर सैकड़ों साल से रहते चले आ रहे हैं, और इसी वजह से यहां की राजभाषा में हिंदी भी शामिल है, जो समय के साथ विकसित हुई है।

फिजी

इस फिजी देश में प्रचुर मात्रा में वन, खनिज और जलीय स्रोत हैं। जिसकी वजह से फिजी को प्रशांत महासागर के द्वीपों मे सबसे उन्नत राष्ट्र माना जाता है। बता दें, कि यहां विदेशी मुद्रा का सबसे बड़ा स्त्रोत पर्यटन और चीनी का निर्यात है।

1874 में ब्रिटेन ने इस द्वीप को अपने नियंत्रण में लेकर इसे अपना एक उपनिवेश बना लिया था। इसके बाद वो हजारों भारतीय मजदूरों को यहां पांच साल के  अनुबंध (कॉन्ट्रैक्ट) पर गन्ने की खेती के लिए यहां लेकर आए, और ये शर्त रख दी थी, कि अपने खर्चों पर पांच साल पूरा होने के बाद अगर वो जाना चाहें तो जा सकते हैं, लेकिन अगर वो पांच साल और काम करते हैं, तो उसके बाद उन्हें ब्रिटिश खुद भारत पहुंचाएंगे।

ऐसे में ज्यादातर मजदूरों ने काम करना ही ठीक समझा था, लेकिन बाद में वो भारत लौट नहीं पाए और फिजी में ही बस गए|

फिजी द्वीपसमूह

वैसे तो फिजी द्वीपसमूह में कुल 322 द्वीप हैं, जिनमें से केवल 106 द्वीप ही स्थायी रूप से बसे हुए हैं। इस द्वीपसमूह में दो प्रमुख द्वीप विती लेवु और वनुआ लेवु हैं, जिन पर इस देश की लगभग 87 फीसदी आबादी निवास करती है।

बड़ी संख्या में भारतीयों के होने की वजह से यहाँ कई हिंदू मंदिर भी हैं। यहां का सबसे मशहूर और बड़ा मंदिर नादी शहर में स्थित है, जिसे श्री शिव सुब्रमन्या हिंदू मंदिर के नाम से जाना जाता है। फिजी में रहने वाले हिंदू हिंदुस्तान की तरह ही रामनवमी, होली और दिवाली जैसे हिंदू त्योहार भी मनाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *