कोलकाता पुलिस सफेद यूनिफॉर्म ही आखिर क्यों पहनती है. जानना चाहेंगे आप?

देशभर में पुलिस खाकी वर्दी पहनती हैं, वहीं कोलकाता पुलिस  सफेद यूनिफॉर्म ही क्यों पहनती है, आज हम आपको इसी से जुड़ी जानकारी देने जा रहे हैं।

वैसे तो ब्रिटिश राज में जब पुलिस का गठन हुआ था, तब उनकी पुलिस सफेद रंग की वर्दी पहनती थी, लेकिन ज्यादा देर तक ड्यूटी करने के दौरान वो जल्द ही मैली भी हो जाती थी।

इसी वजह से पुलिसकर्मियों ने वर्दी को जल्दी गंदा होने से बचाने के लिए उसे अलग-अलग रंगों से रंगना शुरू कर दिया।

सफेद रंग की वर्दी

सफेद रंग की वर्दी पर अलग-अलग रंग लगाने की वजह से जवानों की यूनिफॉर्म अलग-अलग रंगों की दिखने लगती थी। इसके समाधान के लिए अंग्रेज अफसरों ने खाकी रंग की वर्दी बनवाई, ताकि वो जल्दी गंदा न हो।

आपको बता दें, कि साल 1847 में अंग्रेज अफसर सर हैरी लम्सडेन ने पहली बार आधिकारिक तौर पर खाकी रंग की वर्दी को अपनाया था, और तब से यही खाकी भारतीय पुलिस की वर्दी बन गई|

आपको जानकर आश्चर्य होगा, कि पश्चिम बंगाल में पुलिस खाकी वर्दी ही पहनती है, लेकिन वहीं की कोलकाता पुलिस सफेद।

दरअसल, उस समय कोलकाता पुलिस को भी खाकी रंग की वर्दी पहनने का प्रस्ताव मिला था, लेकिन उन्होंने उसे खारिज कर दिया था। इसके पीछे उन्होंने लॉजिक यह दिया, कि कोलकाता तटीय इलाका है, और यहां काफी गर्मी और नमी रहती है।

ऐसे में वैज्ञानिक नजरिये से भी सफेद रंग ज्यादा बेहतर है, क्योंकि इस रंग से सूरज की रोशनी परावर्तित हो जाती है और ज्यादा गर्मी नहीं लगती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *