भारतीय ट्रांसवूमेन आर्ची सिंह कई रिजेक्शन के बाद अब मिस इंटरनेशनल ट्रांस में लेंगी हिस्सा

आखिरकार, तमाम तरह की मुश्किलों और चुनौतियों के बावजूद भारतीय ट्रांसवूमेन आर्ची सिंह ‘मिस इंटरनेशनल ट्रांस 2021’ में जगह बनाने में सफल हुईं|

आर्ची सिंह की जेंडर रिजाइनमेंट सर्जरी

अपना दर्द बयां करते हुए आर्ची सिंह ने बताया, कि उनसे अक्सर कहा जाता था कि वह ‘रियल वूमेन नहीं हैं.’

आर्ची ने कहा, कि वह एक ट्रांस जरूर हैं, लेकिन किसी महिला के बराबर ही हैं| बता दें, आर्ची की ‘जेंडर रिजाइनमेंट सर्जरी’ हुई है, और उसका आधिकारिक सरकारी आईडी कार्ड भी उसे एक महिला के रूप में मान्यता देता है|

उन्होंने कहा, ‘वो लोग एक ऐसी महिला चाहते थे जो ट्रांस न हो, लेकिन कभी जुबां से कहते नहीं थे.’

दिल्ली की एक मिडिल क्लास फैमिली से आने वाली आर्ची 17 साल की उम्र में पहली बार एक मॉडल के रूप सामने आईं, और इस दौरान आर्ची के परिवार के कदम-कदम पर सपोर्ट ने उनकी उम्मीदों को कभी टूटने नहीं दिया|

मिस इंटरनेशनल ट्रांस में शामिल आर्ची

आज आर्ची समाज की घिसी-पिटी व्यवस्था को तोड़ते हुए मिस इंटरनेशनल ट्रांस में शामिल होने जा रही हैं| आर्ची के मुताबिक, वह कई फैशन शो की शो स्टॉपर बनीं, लेकिन, सफलता के बावजूद उनके साथ भेदभाव जारी रहा|

मालूम हो, अब आर्ची कोलंबिया में मिस इंटरनेशनल ट्रांस 2021 में भारत का प्रतिनिधित्व करने जा रही हैं, वह न सिर्फ ये खिताब जीतना चाहती हैं, बल्कि ट्रांस कम्यूनिटी के प्रति लोगों की सोच को बदलना चाहती हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *