जानिए आखिर क्यों, ओवुलेशन पीरियड होता है प्रेग्नेंट होने का सही समय

मां बनना हर महिला के लिए एक सुखद एहसास होता है। जब एक महिला मां बनने के बारे में सोचती है। सबसे पहले उसे अपने मंथली पीरियड्स के साइकिल के बारे पता होना बेहद ज़रूरी है। उसी समय के बीच एक ऐसा टाइम आता है जिसे हम ओवुलेशन के नाम से जानते है। महिला के अंडाशय से अंडे के बाहर निकलने की प्रक्रिया को ही ओवुलेशन कहा जाता है।

इसी समय अवधि के दौरान महिला के शरीर से निकले अंडे पुरुष के वीर्य से मिलने के लिए तैयार होते हैं। कहने का मतलब कि, इस दौरान संभोग करने से आसानी से गर्भधारण किया जा सकता है। अगर महिला मां नहीं बनना चाहती है तो इस दौरान संभोग न करने या सुरक्षित संबंध रख कर गर्भधारण से बचा जा सकता है।

गर्भ धारण के लिए ओवुलेशन पीरियड का खास ध्यान रखने की जरूरत इसलिए होती है, क्योंकि, हर महिला का पीरियड टाइम अलग -अलग होता है। अगर हम साधारण २८ दिन के चक्र की बात करें तो यह 14वें दिन के आसपास होगा। लेकिन महिलाओं के मासिक धर्म की अवधि 28 के बजाय ३२ या फिर ३५ दिन भी रह सकती है लेकिन, ओवुलेशन टाइम आमतौर पर उस चक्र के 10वें और 18वें दिन के बीच होता है। मतलब, अगली मासिक धर्म की अवधि से लगभग 12 से 15 दिन पहले।

आजकल बाजार में प्रेगनेंसी किट की तरह ही ओवुलेशन किट भी मौजूद है। इसमें ओवुलेशन टाइम शुरू होने से पहले पेशाब में ल्यूटीनाइजिन्ग हार्मोन में बढ़ोतरी का पता लग जाता है। वहीं उस दौरान स्तन काफी संवेदनशील हो जाते हैं।

अगर कोई महिला जल्दी माँ बनना चाहती है तो डॉक्टर उसे हमेशा ओवुलेशन पीरियड को ध्यान में रखने की सलाह देते हैं| क्योंकि, इसी दौरान अंडाशय से निकलने के बाद लगभग 24 घंटे तक अंडा जीवित रहता है। अगर इस दौरान संभोग किया जाए तो प्रेग्नेंसी की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है। अगर आसान शब्दों में समझें तो यह पीरियड मासिक धर्म के पूरे होने के सात दिन बाद शुरू होता है और मासिक धर्म के शुरू होने से सात दिन पहले तक रहता है।

One thought on “जानिए आखिर क्यों, ओवुलेशन पीरियड होता है प्रेग्नेंट होने का सही समय

  • Pingback: बॉलीवुड हॉटेस्ट मॉम्स, जिनकी फिटनेस देख आप हो जाएंगे हैरान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *